Civil Procedure Code (CPC)

self defence


एक आदमी अपने तीन साथी के साथ, हमें घायल/मारने के नियत से हमला करता है और उसके तीन साथी को हम नहीं (क्यों कि वो तीनों बाहरी हैं ) जानते है लेकिन यह जानते हैं कि उसी के इशारे पर हमला किया गया है।हम अपना बचाव करते हुए उसी पर गोली चला दी । उसके गिरते ही तीनों भाग खड़े हुए। क्या है self defence के अन्तर्गत आता है।
 
Reply   
 

हां, आपको निजी रक्षा का अधिकार है। आईपीसी धारा 100 के तहत जब हमलावर द्वारा किए गए कृत्य से मौत की उचित आकांक्षा होती है तब निजी रक्षा का अधिकार मौत का कारण बनने की डिग्री तक उपलब्ध है। आईपीसी की धारा 102 के अनुसार निजी बचाव का अधिकार शरीर के खतरे की उचित आकांक्षा पैदा होते ही शुरू हो जाता है।

उपरोक्त मामले में आपकी मृत्यु होने की उचित आकांक्षा थी।  इसलिए जैसे ही उन लोगों ने आप को मारने या नुकसान पहुंचाने के इरादे से आप को घेरा, आपका निजी बचाव का अधिकार शुरू हो  गया था।

 

Yes, you have the right of private defence. Under section 100 of IPC, the right of Private Defence to the degree of causing death is available when the act by the aggressor causes reasonable apprehension of death. According to section 102 of IPC, the right of private defence commences as soon as reasonable apprehension of danger to the body arises.

In the above case, there was a reasonable apprehension of causing your death. Therefore, your right of private defence commences as soon as those people surrounded you with intention to kill or harm you.

 
Reply   
 


LEAVE A REPLY


    

Your are not logged in . Please login to post replies

Click here to Login / Register  


 

  Search Forum








×

Menu

Post a Suggestion for LCI Team
Post a Legal Query
Civil Litigation Course     |    x