Divorce


साथियों को सादर प्रणाम🙏🏻 आज इंदौर डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में 498A की डेट थी। जिसमें मेरी विरोधी मेरे कहे अनुसार बयान देने, और क्रॉस करवाकर केस को विधिवत खत्म करवाने वाली थी। फिर मेरे वक़ील को अवगत करवाया की मैं पहुँच चुका हूँ, आप विरोधी को भी आने का बोल दें (क्योंकि मेरे और विरोधी के वकील आज मध्यस्थता करवा रहे थे मेरे ओर विरोधी के वकील ने जज को विषय बताया। कि लड़की साक्ष्य देगी, आरोपी के वकील क्रॉस करेंगे । इस पर एक पक्षीय भावनाओं से भरी बैठी जज मेडम बोलीं को ऐसे नही होगा, ऐसे में तो राजीनामा पेश होगा। विरोधी की वक़ील ने कहा कि आरोपी चाहता है कि बिना समझौते के केस खत्म हो। इस पर जज मैडम ने कहा कि राजीनामा ही पेश होता है इसमें तो। इस पर विरोधी की वक़ील ने कहा साहब हम राजीनामे को तैयार हैं, आरोपी नहीं मान रहा। इस पर जज मैडम मुझे समझाने लगी कि समझौता कर लो फटाफट फ्री हो जाओगे। मैंने कहा दिया:- सर समझौता वे दो लोग करते हैं जिन दोनों की थोड़ी थोड़ी गलती रहती है। मैंने कोई दहेज़ नहीं मांगा है, आरोप झूठे लगाए गए हैं, मैं केवल न्याय चाहता हूँ, साथ ही माननीय न्यायालय से निवेदन है कि विगत 4 वर्षों में आवेदिका आज ही न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत हुईं है। अतः इन्हें निर्देशित करने की कृपा करें कि न्यायालयीन प्रक्रिया में सहयोग करें। साथ ही निवेदन है कि हर तारीख पर 4 महीने की डेट लगती है जिससे प्रकरण अनावश्यक लम्बित बना हुआ है, मैं दिन प्रतिदिन सुनवाई के भी निवेदन करता हूँ🙏🏻 इस पर जज मैडम ने मुझे डाँटते हुए कहा:- 6 हज़ार से अधिक प्रकरण हैं सबमें दिन प्रतिदिन सुनवाई होगी तो कोर्ट में जगह नहीं मिलेगी। आज मन इस बात से हताश है कि न्यायाधीश भी महिला को बचाते हुए ही अपना काम करना चाह रहीं है कृपया करके कुछ उपाय बताइये please .
 
Reply   
 

Hello Sir, 

Main aapko kehna chahungi ki yeh court ka kaam hi issi tarah hota hai jisme bauht saare cases pending hai toh court ko sabko dekhna hota hai. Aap bs court mein darkhwast kr sakte hai ki voh aapka case jldi sune.

 
Reply   
 



Hello Sir, 

Main aapko kehna chahungi ki yeh court ka kaam hi issi tarah hota hai jisme bauht saare cases pending hai toh court ko sabko dekhna hota hai. Aap bs court mein darkhwast kr sakte hai ki voh aapka case jldi sune.

 
Reply   
 

सर
यदी आप सच मे सामने वले को सबक सिखाना चहते हे तो आप आगे बढे व इस मुकदंमे को आगे चालने दे,अन्यथा आप यही रुक जाये ओर समजोता कर ले.
 
Reply   
 

Yadi aap samne vale ko sbak sikhana chahte ho to aap is mukkadame me aage badhe anyatha smjota kr le.
 
Reply   
 

LEAVE A REPLY


    

Your are not logged in . Please login to post replies

Click here to Login / Register  



 

Search Forum:








×

  LAWyersclubindia Menu