u/a. 226 constiution of india

This query is : Resolved 
 

(Querist)
07 February 2019

सेंट्रल कर्मी (बैंक) का U/A. 226 CONSTIUTION OF INDIA के तहत केस जो की सस्पेंशन मेटर पर तहत दायर था याचिकाकर्ता के निधन के बाद उसके वारिसान जस्टिस के लिए उसे चालू रखा सकते है कयोकि निलंबन केवल ट्रांसफर मेटर पर हुआ था और वारिसान को न्याय चाहिए


Sudhir Kumar (Expert)
08 February 2019

the suspension does not subsists once the accused died. All cases against him shall stop.

It is futile to spend time and money in court now. Just claim retirement dues.

gajendra soni (Querist)
08 February 2019

सर परिवार की भावनाये भी तो उन पर हुए अन्याय को न्याय में बदल को समाज में हुए बदनामी और हिन्दू समाज के आधार पर उस लोग में आत्मा को शांति पहुंचने की बात से हमें शांति का अनुभव होता है इसके लिए पैसे व् समय का वैल्यू नहीं है परन्तु अगर जस्टिस मिलने की आशा हो या मरने के बाद भी वारिसान को किसी रुल के आधार पर वह केस स्टार्ट रखने की अनुमति हो

KISHAN DUTT RETD JUDGE (Expert)
08 February 2019

Dear Sir,
Without knowing contents of writ petition no accurate legal opinion can be given as detailed furnished are in sufficient.

Please mark “LIKE” if satisfied by my answer.

Sudhir Kumar (Expert)
08 February 2019

१. जब आरोपी ही जीवित नहीं है तो कोई भी प्रकरण नहीं चल सकता

२. मृत आरोपी की निलंबन भी जारी नहीं रह सकती|

३. परिवार को पूरी पेंशन आदि मिल जाएगी

तो किस कोर्ट में कौनसा मुकदमा चलाना चाहते हो

फिजूल वकीलों की जेबें ठूंसकर जगहंसाई करवानी है तो चले चलो कोर्ट में बहुत वकील मिल जायेंगे जोकि service matter का क,ख, ग भी नहीं जानते

P. Venu (Expert)
08 February 2019

Learned Expert Shri Sudhir Kumar has given you the correct advice. There is no cause of action in approaching any Court.

P. Venu (Expert)
08 February 2019

Learned Expert Shri Sudhir Kumar has given you the correct advice. There is no cause of action in approaching any Court.

Dr J C Vashista (Expert)
09 February 2019

You are LR of petitioner or respondent in the writ petition ?


gajendra soni (Querist)
11 February 2019

petitioner ya yachikakarta hai

Sudhir Kumar (Expert)
13 February 2019

आपका जवाब स्पष्ट नहीं है

प्रतीत होता है की आवेदक की मृत्यु हो गयी है और आप वारिस हैं

आप यदि confuse होकर पैसा लुटाना चाहते हैं तो यह forum आपकी कोइ मदद नहीं कर सकती



You need to be the querist or approved LAWyersclub expert to take part in this query .


Click here to login now



Similar Resolved Queries :









×

  LAWyersclubindia Menu